Red PURPLE BLACK

विशेष वार्ता

 लाईव्ह अपडेट :  शुभवार्ता >>  बीकेवार्ता पाठक संख्या एक करोड के नजदिक -  दिनदूगीनी रात चौगुनी बढरही  पाठकसंख्या बीकेवार्ता की ---- पाठको को लगातार नई जानकारी देनें मेे अग्रेसर रही बीकेवार्ता , इसी नवीनता के लिए पाठको का आध्यात्तिक प्यार बढा ---- सभी का दिलसे धन्यवाद --- देखीयें हमारी नई सेवायें >>>  ब्रहमाकुमारीज द्वारा आंतरराष्टीय सेवायें  | ब्रहमाकुमारीज वर्गीकत सेवायें |आगामी कार्यक्रम | विश्व और भारत महत्वपूर्ण दिवस | विचारपुष्प |


 

Visitor Meter

Articles View Hits
4645111

आज की मुरली एप्स

 

 


 
 
एचटीएमएल- पढने हेतु  एमपी 3 सूनने हेतु                   PDF 

 
06-04-2020
 06-04-20 PDF
   06-04-20 PDF
 
05-04-20
 05-04-20 PDF
   05-04-20 PDF
 
04-04-2020
 04-04-20 PDF
   04-04-20 PDF
 
03-04-2020
 03-04-20 PDF
   03-04-20 PDF
 
02-04-2020
 02-04-20 PDF
   02-04-20 PDF
 
01-04-2020
 01-04-20 PDF
   01-04-20 PDF
 
31-03-2020
 31-03-20 PDF
   31-03-20 PDF
 
 30-03-2020
 30-03-20 PDF

    30-03-20 PDF
 
 29-03-20
29-03-20 PDF
   29-03-20 PDF
 
 28-03-2020
28-03-20 PDF
  28-03-20 PDF
 
27-03-2020
 27-03-20 PDF
   27-03-20 PDF
 
26-03-2020
   26-03-20 PDF
   26-03-20 PDF
 
25-03-2020
  25-03-20 PDF
   25-03-20 PDF
 
24-03-2020
 24-03-20 PDF
   24-03-20 PDF
 
23-03-2020
 23-03-20 PDF
   23-03-20 PDF
 
22-03-20
 22-03-20 PDF
     22-03-20 PDF
 
21-03-2020
 21-03-20 PDF
    21-03-20 PDF
 
20-03-2020
  20-03-20 PDF
   20-03-20 PDF
 
19-03-2020
 19-03-20 PDF
   19-03-20 PDF
 
18-03-2020
 18-03-20 PDF
   18-03-20 PDF
 
17-03-2020
 17-03-20 PDF
   17-03-20 PDF
 
16-03-2020
 16-03-20 PDF
   16-03-20 PDF
 
15-03-20
 15-03-20 PDF
   15-03-20 PDF
 
14-03-2020
 14-03-20 PDF
   14-03-20 PDF
 
13-03-2020
 13-03-20 PDF
   13-03-20 PDF
 
  12-03-20 PDF
   12-03-20 PDF
 
11-03-2020
11-03-20 PDF
   11-03-20 PDF
 
 10-03-2020
 10-03-20 PDF
   10-03-20 PDF
 
 09-03-2020
 09-03-20 PDF
   09-03-20 PDF
 
08-03-20
 08-03-20 PDF
   08-03-20 PDF
 
07-03-2020
 07-03-20 PDF
   07-03-20 PDF
 
 06-03-20

 06-03-20 PDF
    06-03-20 PDF
 
05-03-20_
 05-03-20 PDF
   05-03-20 PDF
 
04-03-20
 04-03-20 PDF
   04-03-20 PDF  
03-03-20
 03-03-20 PDF
   03-03-20 PDF
 
02-03-20
 02-03-20 PDF
   02-03-20 PDF
 
01-03-20
 01-03-20 PDF
   01-03-20 PDF
 
    29-02-20 MP3
   29-02-20 PDF
 
 28-02-2020
 28-02-20 MP3
   28-02-20 PDF
 
27-02-2020
 27-02-20 MP3
   27-02-20 PDF
 
26-02-2020
 26-02-20 MP3
   26-02-20 PDF
 
25-02-2020
 25-02-20 MP3
   25-02-20 PDF
 
  24-02-20 MP3
   24-02-20 PDF
 
23-02-20
23-02-20 MP3
  23-02-20 PDF
 
  22-02-20 MP3
  22-02-20 PDF
 
  21-02-20 MP3
  21-02-20 PDF
 
  20-02-20 MP3
  20-02-20 PDF
 
19-02-2020
19-02-20 MP3
   19-02-20 PDF
 
  18-02-20 MP3
   18-02-20 PDF
 
17-02-2020
 17-02-20 MP3
    17-02-20 PDF
 
16-02-2020
 16-02-20 MP3
   16-02-20 PDF
 
15-02-2020

15-02-20 MP3
   15-02-20 PDF
 
14-02-2020
 14-02-20 MP3
   14-02-20 PDF
 
13-02-2020
 13-02-20 MP3
    13-02-20 PDF
 
12-02-2020
 12-02-20 MP3
   12-02-20 PDF
 
11-02-2020
 11-02-20 MP3
   11-02-20 PDF
 
10-02-2020
 10-02-20 MP3
   10-02-20 PDF
 
         
09-02-20
 09-02-20 MP3
   09-02-20 PDF
 
08-02-2020
 08-02-20 MP3
   08-02-20 PDF
 
07-02-2020
 07-02-20 MP3
   07-02-20 PDF
 
06-02-2020
06-02-20 MP3
   06-02-20 PDF  
04-02-2020
 04-02-20 MP3
   04-02-20 PDF
 
03-02-2020
 03-02-20 MP3
   03-02-20 PDF
 
02-02-20
 02-02-20 MP3
  02-02-20 PDF
 
01-02-2020
 01-02-20 MP3
   01-02-20 PDF
 
31-01-2020
31-01-20 MP3
  31-01-20 PDF
 
30-01-2020
  30-01-20 MP3
    30-01-20 PDF
 
29-01-2020
 29-01-20 MP3
   29-01-20 PDF
 
28-01-2020
 28-01-20 MP3
   28-01-20 PDF
 
27-01-2020
  27-01-20 MP3
    27-01-20 PDF
 
26-01-20
 26-01-20 MP3
   26-01-20 PDF
 
25-01-2020
 25-01-20 MP3
   25-01-20 PDF
 
24-01-2020
 24-01-20 MP3
   24-01-20 PDF
 
23-01-2020
23-01-20 MP3
  23-01-20 PDF
 
 22-01-2020
 22-01-20 MP3
  22-01-20 PDF
 
 21-01-2020
21-01-20 MP3
   21-01-20 PDF
 
 20-01-2020
 20-01-20 MP3
  20-01-20 PDF
 
 19-01-20
19-01-20 MP3
   19-01-20 PDF
 
18-01-2020
 18-01-20 MP3
   18-01-20 PDF
 
17-01-2020
 17-01-20 MP3
   17-01-20 PDF
 
16-01-2020
 16-01-20 MP3
   16-01-20 PDF
 
 15-01-2020
15-01-20 MP3
   15-01-20 PDF
 
 14-01-2020 
 14-01-20 MP3
   14-01-20 PDF
 
13-01-2020
 13-01-20 MP3
  13-01-20 PDF
 
12-01-20
 12-01-20 MP3
    12-01-20 PDF
 
11-01-2020
11-01-20 MP3
    11-01-20 PDF
 
10-01-2020
10-01-20 MP3
   10-01-20 PDF
 
 09-01-2020
  09-01-20 MP3
   09-01-20 PDF
 
 08-01-2020
 08-01-20 MP3
   08-01-20 PDF
 
 07-01-2020
 07-01-20 MP3
   07-01-20 PDF
 
06-01-2020
06-01-20 MP3
   06-01-20 PDF
 
05-01-20
 05-01-20 MP3
  05-01-20 PDF
 
04-01-2020
 04-01-20 MP3
   04-01-20 PDF
 
02-01-2020
 02-01-20 MP3
   02-01-20 PDF
 
01-01-2020
 01-01-20 MP3
   01-01-20 PDF
 
31-12-2019
 31-12-19 MP3
  31-12-19 PDF
 
30-12-2019
 30-12-19 MP3
   30-12-19 PDF
 
29-12-19
29-12-19 MP3
   29-12-19 PDF
 
  28-12-19 MP3
   28-12-19 PDF
 
27-12-2019
27-12-19 MP3
   27-12-19 PDF
 
  26-12-19 MP3
   26-12-19 PDF
 
25-12-2019
25-12-19 MP3
   25-12-19 PDF
 
 24-12-2019
 24-12-19 MP3
   24-12-19 PDF
 
23-12-2019
 23-12-19 MP3
   23-12-19 PDF
 
22-12-19
22-12-19 MP3
   22-12-19 PDF
 
 21-12-2019
  21-12-19 MP3
  21-12-19 PDF
 
 20-12-2019
 20-12-19 MP3
  20-12-19 PDF
 
   19-12-19 MP3
  19-12-19 PDF
 
18-12-2019
18-12-19 MP3
  18-12-19 PDF
 
17-12-2019
 17-12-19 MP3
   17-12-19 PDF
 
16-12-19
16-12-19 MP3
  16-12-19 PDF
 
15-12-19
 15-12-19 MP3
  15-12-19 PDF
 
14-12-2019
   14-12-19 MP3
  14-12-19 PDF
 
13-12-2019
  13-12-19 MP3
   13-12-19 PDF
 
13-12-2019
 12-12-19 MP3
  12-12-19 PDF
 
11-12-2019
11-12-19 MP3
   11-12-19 PDF
 
 10-12-2019
10-12-19 MP3
  10-12-19 PDF
 
 09-12-2019
 09-12-19 MP3
   09-12-19 PDF
 
08-12-19
 08-12-19 MP3
  08-12-19 PDF
 
 07-12-2019
 07-12-19 MP3
   07-12-19 PDF
 
 06-12-2019
 06-12-19 MP3
   06-12-19 PDF
 
 05-12-2019 
05-12-19 MP3
   05-12-19 PDF
 
 04-12-2019
 04-12-19 MP3
   04-12-19 PDF
 
03-12-2019
 03-12-19 MP3
   03-12-19 PDF
 
02-12-2019
 02-12-19 MP3
   02-12-19 PDF
 
01-12-19
 01-12-19 MP3
   01-12-19 PDF
 
30-11-2019
 30-11-19 MP3
  30-11-19 PDF
 
29-11-2019
29-11-19 MP3
  29-11-19 PDF
 
 
 28-11-19 MP3
  28-11-19 PDF
 
 27-11-2019 
 27-11-19 MP3
   27-11-19 PDF
 
26-11-2019
26-11-19 MP3
   26-11-19 PDF
 
25-11-2019
25-11-19 MP3
  25-11-19 PDF
 
24-11-19
 24-11-19 MP3
   24-11-19 PDF
 
23-11-2019
 23-11-19 MP3
  23-11-19 PDF
 
22-11-2019
22-11-19 MP3
  22-11-19 PDF
 
21-11-2019
 21-11-19 MP3
   21-11-19 PDF
 
20-11-2019
20-11-19 MP3
   20-11-19 PDF
 
 19-11-2019
19-11-19 MP3
   19-11-19 PDF
 
 18-11-2019
18-11-19 MP3
    18-11-19 PDF
 
 17-11-19
17-11-19 MP3
   17-11-19 PDF
 
 16-11-2019
16-11-19 MP3
   16-11-19 PDF
 
  15-11-19 MP3
   15-11-19 PDF
 
  14-11-19 MP3
   14-11-19 PDF
 
13-11-2019
13-11-19 MP3
   13-11-19 PDF
 
12-11-2019
12-11-19 MP3
   12-11-19 PDF
 
 11-11-2019
11-11-19 MP3
   11-11-19 PDF
 
10-11-19
10-11-19 MP3
   10-11-19 PDF
 
09-11-2019
 09-11-19 MP3
   09-11-19 PDF
 
08-11-2019
 08-11-19 MP3
   08-11-19 PDF
 
07-11-2019
 07-11-19 MP3
   07-11-19 PDF
 
06-11-2019
06-11-19 MP3
    06-11-19 PDF
 
05-11-2019
 05-11-19 MP3
   05-11-19 PDF
 
04-11-2019

04-11-19 MP3   04-11-19 PDF  
         
02-11-2019
 02-11-19 MP3
   02-11-19 PDF
 
01-11-2019
01-11-19 MP3
    01-11-19 PDF
 
31-10-2019
 31-10-19 MP3
   31-10-19 PDF
 
30-10-2019
30-10-19 MP3
   30-10-19 PDF
 
 20-10-19
 20-10-19 MP3
   20-10-19 PDF
 
19-10-2019
 19-10-19 MP3
   19-10-19 PDF
 
 18-10-2019
 18-10-19 MP3
   18-10-19 PDF
 
17-10-2019
17-10-19 MP3
   17-10-19 PDF
 
16-10-2019
16-10-19 MP3
   16-10-19 PDF
 
15-10-2019

15-10-19 MP3
  15-10-19 PDF
 
         

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 



20-01-20 PDF

 

03-02-2020 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन


“मीठे बच्चे - तुम्हारी फ़र्ज-अदाई है घर-घर में बाप का पैगाम देना, कोई भी हालत में युक्ति रचकर बाप का परिचय हरेक को अवश्य दो”

प्रश्न:

तुम बच्चों को किस एक बात का शौक रहना चाहिए?

उत्तर:

जो नई-नई प्वाइंट्स निकलती हैं, उनको अपने पास नोट करने का शौक रहना चाहिए क्योंकि इतनी सब प्वाइंट्स याद रहना मुश्किल है। नोट्स लेकर फिर कोई को समझाना है। ऐसे भी नहीं कि लिखकर फिर कॉपी पड़ी रहे। जो बच्चे अच्छी रीति समझते हैं उन्हें नोट्स लेने का बहुत शौक रहता है।

गीत:-

लाख जमाने वाले........  

ओम् शान्ति।

मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। रूहानी बच्चे, यह अक्षर एक बाप ही कह सकते हैं। रूहानी बाप बिगर कभी कोई किसको रूहानी बच्चे कह नहीं सकते। बच्चे जानते हैं सब रूहों का एक ही बाप है, हम सब भाई-भाई हैं। गाते भी हैं ब्रदरहुड, फिर भी माया की प्रवेशता ऐसी है जो परमात्मा को सर्वव्यापी कह देते हैं तो फादरहुड हो पड़ता है। रावण राज्य पुरानी दुनिया में ही होता है। नई दुनिया में राम राज्य अथवा ईश्वरीय राज्य कहा जाता है। यह समझने की बातें हैं। दो राज्य जरूर हैं-ईश्वरीय राज्य और आसुरी राज्य। नई दुनिया और पुरानी दुनिया। नई दुनिया जरूर बाप ही रचते होंगे। इस दुनिया में मनुष्य नई दुनिया और पुरानी दुनिया को भी नहीं समझते हैं। गोया कुछ नहीं जानते हैं। तुम भी कुछ नहीं जानते थे, बेसमझ थे। नई सुख की दुनिया कौन स्थापन करता है फिर पुरानी दुनिया में दु:ख क्यों होता है, स्वर्ग से नर्क कैसे बनता है, यह किसको भी पता नहीं है। इन बातों को तो मनुष्य ही जानेंगे ना। देवताओं के चित्र भी हैं तो जरूर आदि सनातन देवी-देवताओं का राज्य था। इस समय नहीं है। यह है प्रजा का प्रजा पर राज्य। बाप भारत में ही आते हैं। मनुष्यों को यह पता नहीं है कि शिवबाबा भारत में आकर क्या करते हैं। अपने धर्म को ही भूल गये हैं। तुमको अब परिचय देना है त्रिमूर्ति और शिव बाप का। ब्रह्मा देवता, विष्णु देवता, शंकर देवता कहा जाता है फिर कहते हैं शिव परमात्माए नम: तो तुम बच्चों को त्रिमूर्ति शिव का ही परिचय देना है। ऐसी-ऐसी सर्विस करनी है। कोई भी हालत में बाप का परिचय सबको मिले तो बाप से वर्सा ले लेवें। तुम जानते हो हम अभी वर्सा ले रहे हैं। और भी बहुतों को वर्सा लेना है। हमारे ऊपर फर्ज-अदाई है घर-घर में बाप का पैगाम देने की। वास्तव मंह मैसेन्जर एक बाप ही है। बाप अपना परिचय तुमको देते हैं। तुमको फिर औरों को बाप का परिचय देना है। बाप की नॉलेज देनी है। मुख्य है त्रिमूर्ति शिव, इनका ही कोट ऑफ आर्मस भी बनाया है। गवर्मेंन्ट इनका यथार्थ अर्थ नहीं समझती है। उसमें चक्र भी दिया है चरखे मिसल और उसमें फिर लिखा है सत्य मेव जयते। इनका अर्थ तो निकलता नहीं। यह तो संस्कृत अक्षर है। अब बाप तो है ही ट्रूथ। वह जो समझाते हैं उससे तुम्हारी विजय होती है सारे विश्व पर। बाप कहते हैं मैं सच कहता हूँ तुम इस पढ़ाई से सच-सच नारायण बन सकते हो। वो लोग क्या-क्या अर्थ निकालते हैं। वह भी उनसे पूछना चाहिए। बाबा तो अनेक प्रकार से समझाते हैं। जहाँ-जहाँ मेला लगता है वहाँ नदियों पर भी जाकर समझाओ। पतित-पावन गंगा तो हो नहीं सकती। नदियाँ सागर से निकली हैं। वह है पानी का सागर। उनसे पानी की नदियाँ निकलती हैं। ज्ञान सागर से ज्ञान की नदियाँ निकलेगी। तुम माताओं में अब ज्ञान है, गऊमुख पर जाते हैं, उनके मुख से पानी निकलता है, समझते हैं यह गंगा का जल है। इतने पढ़े-लिखे मनुष्य समझते नहीं कि यहाँ गंगा जल कहाँ से निकलेगा। शास्त्रों में है कि बाण मारा और गंगा निकल आई। अब यह तो हैं ज्ञान की बातें। ऐसे नहीं कि अर्जुन ने बाण मारा और गंगा निकल आई। कितना दूर-दूर तीर्थों पर जाते हैं। कहते हैं शंकर की जटाओं से गंगा निकली, जिसमें स्नान करने से मनुष्य से परी बन जाते हैं। मनुष्य से देवता बन जाते, यह भी परी मिसल हैं ना।
अब तुम बच्चों को बाप का ही परिचय देना है इसलिए बाबा ने यह चित्र बनवाये हैं। त्रिमूर्ति शिव के चित्र में सारी नॉलेज है। सिर्फ उन्हों के त्रिमूर्ति के चित्र में नॉलेज देने वाले (शिव) का चित्र नहीं है। नॉलेज लेने वाले का चित्र है। अभी तुम त्रिमूर्ति शिव के चित्र पर समझाते हो। ऊपर है नॉलेज देने वाला। ब्रह्मा को उनसे नॉलेज मिलती है जो फिर फैलाते हैं। इसको कहा जाता है ईश्वर के धर्म के स्थापना की मशीनरी। यह देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है। तुम बच्चों को अपने सत्य धर्म की पहचान मिली है। तुम जानते हो हमको भगवान पढ़ाते हैं। तुम कितना खुश होते हो। बाप कहते हैं तुम बच्चों की खुशी का पारावार नहीं होना चाहिए क्योंकि तुम्हें पढ़ाने वाला स्वयं भगवान है, भगवान तो निराकार शिव है, न कि श्री कृष्ण। बाप बैठ समझाते हैं सर्व का सद्गति दाता एक है। सद्गति सतयुग को कहा जाता है, दुर्गति कलियुग को कहा जाता है। नई दुनिया को नई, पुरानी को पुरानी ही कहेंगे। मनुष्य समझते हैं अभी दुनिया को पुराना होने में 40 हज़ार वर्ष चाहिए। कितना मूँझ पड़े हैं। सिवाए बाप के इन बातों को कोई समझा न सके। बाबा कहते हैं मैं तुम बच्चों को राज्य-भाग्य दे बाकी सबको घर ले जाता हूँ, जो मेरी मत पर चलते हैं वह देवता बन जाते हैं। इन बातों को तुम बच्चे ही जानते हो, नया कोई क्या समझेगा।
तुम मालियों का कर्तव्य है बगीचा लगाकर तैयार करना। बागवान तो डायरेक्शन देते हैं। ऐसे नहीं बाबा कोई नयों से मिलकर ज्ञान देगा। यह काम मालियों का है। समझो, बाबा कलकत्ते में जाये तो बच्चे समझेंगे हम अपने ऑफीसर को, फलाने मित्र को बाबा के पास ले जायें। बाबा कहेंगे, वह तो समझेंगे कुछ भी नहीं। जैसे बुद्धू को सामने ले आकर बिठायेंगे इसलिए बाबा कहते हैं नये को कभी बाबा के सामने लेकर न आओ। यह तो तुम मालियों का काम है, न कि बागवान का। माली का काम है बगीचे को लगाना। बाप तो डायरेक्शन देते हैं-ऐसे-ऐसे करो इसलिए बाबा कभी नये से मिलता नहीं है। परन्तु कहाँ मेहमान होकर घर में आते हैं तो कहते हैं दर्शन करें। आप हमको क्यों नहीं मिलने देते हो? शंकराचार्य आदि पास कितने जाते हैं। आजकल शंकराचार्य का बड़ा मर्तबा है। पढ़े लिखे हैं, फिर भी जन्म तो विकार से ही लेते हैं ना। ट्रस्टी लोग गद्दी पर कोई को भी बिठा देते हैं। सबकी मत अपनी-अपनी है। बाप खुद आकर बच्चों को अपना परिचय देते हैं कि मैं कल्प-कल्प इस पुराने तन में आता हूँ। यह भी अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। शास्त्रों में तो कल्प की आयु ही लाखों वर्ष लगा दी है। मनुष्य तो इतने जन्म ले नहीं सकते हैं फिर जानवर आदि की भी योनियाँ मिलाकर 84 लाख बना दी हैं। मनुष्य तो जो सुनते हैं सब सत-सत करते रहते हैं। शास्त्रों में तो सब हैं भक्तिमार्ग की बातें। कलकत्ते में देवियों की बहुत शोभावान, सुन्दर मूर्तियां बनाते हैं, सजाते हैं। फिर उनको डुबो देते हैं। यह भी गुड़ियों की पूजा करने वाले बेबीज़ ही ठहरे। बिल्कुल इनोसेन्ट। तुम जानते हो यह है नर्क। स्वर्ग में तो अथाह सुख थे। अभी भी कोई मरता है तो कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा तो जरूर कोई समय स्वर्ग था, अब नहीं है। नर्क के बाद फिर जरूर स्वर्ग आयेगा। इन बातों को भी तुम जानते हो। मनुष्य तो रिंचक भी नहीं जानते। तो नया कोई बाबा के सामने बैठ क्या करेंगे इसलिए माली चाहिए जो पूरी परवरिश करे। यहाँ तो माली भी ढेर के ढेर चाहिए। मेडिकल कॉलेज में कोई नया जाकर बैठे तो समझेगा कुछ भी नहीं। यह नॉलेज भी है नई। बाप कहते हैं मैं आया हूँ सबको पावन बनाने। मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। इस समय सब हैं तमोप्रधान आत्मायें, तब तो कह देते आत्मा सो परमात्मा, सबमें परमात्मा है। तो बाप थोड़ेही बैठ ऐसों से माथा मारेगा। यह तो तुम मालियों का काम है - काँटों को फूल बनाना।
तुम जानते हो भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। गाया भी जाता है ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। प्रजापिता ब्रह्मा के तो जरूर बच्चे भी होंगे ना। कोई को इतना भी अक्ल नहीं जो पूछे कि इतने ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हैं, इनका ब्रह्मा कौन है? अरे प्रजापिता ब्रह्मा तो मशहूर है, उन द्वारा ही ब्राह्मण धर्म स्थापन होता है। कहते भी हैं ब्रह्मा देवताए नम:। बाप तुम बच्चों को ब्राह्मण बनाये फिर देवता बनाते हैं।
जो नई-नई प्वाइन्ट्स निकलती हैं, उनको अपने पास नोट करने का शौक बच्चों में रहना चाहिए। जो बच्चे अच्छी रीति समझते हैं उन्हें नोट्स लेने का बहुत शौक रहता है। नोट्स लेना अच्छा है, क्योंकि इतनी सब प्वाइन्ट्स याद रहना मुश्किल है। नोट्स लेकर फिर कोई को समझाना है। ऐसे नहीं कि लिखकर फिर कॉपी पड़ी रहे। नई-नई प्वाइंट्स मिलती रहती हैं तो पुरानी प्वाइंट्स की कापियाँ पड़ी रहती है। स्कूल में भी पढ़ते जायेंगे, पहले दर्जे वाली किताब पड़ी रहती है। जब तुम समझाते हो तो पिछाड़ी में यह समझाओ कि मन्मनाभव। बाप को और सृष्टि चक्र को याद करो। मुख्य बात है मामेकम् याद करो, इसको ही योग अग्नि कहा जाता है। भगवान है ज्ञान का सागर। मनुष्य हैं शास्त्रों का सागर। बाप कोई शास्त्र नहीं सुनाते हैं, वह भी शास्त्र सुनाये तो बाकी भगवान और मनुष्य में फ़र्क क्या रहा? बाप कहते हैं इन भक्ति मार्ग के शास्त्रों का सार मैं तुमको समझाता हूँ।
वह मुरली बजाने वाले सर्प को पकड़ते हैं तो उसके दांत निकाल देते हैं। बाप भी विष पिलाना तुमसे छुड़ा देते हैं। इसी विष से ही मनुष्य पतित बने हैं। बाप कहते हैं इनको छोड़ो फिर भी छोड़ते नहीं हैं। बाप गोरा बनाते हैं फिर भी गिरकर काला मुँह कर देते हैं। बाप आये हैं तुम बच्चों को ज्ञान चिता पर बिठाने। ज्ञान चिता पर बैठने से तुम विश्व के मालिक, जगत जीत बन जाते हो। अच्छा!
मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) सदा खुशी रहे कि हम सत धर्म की स्थापना के निमित्त हैं। स्वयं भगवान हमें पढ़ाते हैं। हमारा देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है।

2) माली बन काँटों को फूल बनाने की सेवा करनी है। पूरी परवरिश कर फिर बाप के सामने लाना है। मेहनत करनी है।

वरदान:

हर शक्ति को कार्य में लगाकर वृद्धि करने वाले श्रेष्ठ धनवान वा समझदार भव

समझदार बच्चे हर शक्ति को कार्य में लगाने की विधि जानते हैं। जो जितना शक्तियों को कार्य में लगाते हैं उतना उनकी वह शक्तियां वृद्धि को प्राप्त होती हैं। तो ऐसा ईश्वरीय बजट बनाओ जो विश्व की हर आत्मा आप द्वारा कुछ न कुछ प्राप्ति करके आपके गुणगान करे। सभी को कुछ न कुछ देना ही है। चाहे मुक्ति दो, चाहे जीवनमुक्ति दो। ईश्वरीय बजेट बनाकर सर्व शक्तियों की बचत कर जमा करो और जमा हुई शक्ति द्वारा सर्व आत्माओं को भिखारीपन से, दु:ख अशान्ति से मुक्त करो।

स्लोगन:

शुद्ध संकल्पों को अपने जीवन का अनमोल खजाना बना लो तो मालामाल बन जायेंगे।

नई टेक्नॉलॉजि(IT)

मनोरंजन