Articles

बीकेवार्ता उदघाटन के ऐतिहासिक क्षण

ब्रह्माकुमारीज् प्रथम हिन्दी पोर्टल मे आपका हार्दिक स्वागत है

उदघाटन के ऐतिहासिक क्षण - 28 नवम्बर, 2009




alt

दि. 28 नवम्बर, 2009 (शान्तीवन - आबूरोड) ब्रहमाकुमारीज प्रथम हिंदी वेबपोर्टल बीकेवार्ता का उदघाटन मीडिया प्रभाग की वार्षिक मीटिग में करतें हूए दायें से प्रो कमल दीक्षितजी,   राष्टीय समन्नुवयक सोसायटी ऑफ मीडिया इनिशिएटीव फार वैल्यूज, बीके शान्‍तनुजी, मुख्यालय समन्वयक मीडिया प्रभाग, बीके सुशांतजी,     राष्टीय समन्वयक मीडिया प्रभाग, बीके  ओमप्रकाशभाईजी, अध्यक्ष मीडिया प्रभाग, बीके करुणाभाईजी, उपाध्‍यक्ष मीडिया प्रभाग, बीके आत्मप्रकाशभाईजी सम्पादक ज्ञानामत तथा राष्टीय समन्वयक मीडिया प्रभाग




alt

इस ऐतिहासिक क्षण के साक्षीदार मीडिया प्रभाग के भाई बहनें




ब्रह्माकुमारीज् हिन्दी भाषा के विशेष रूप से डिजाइन वेबसाइट आपके आध्यात्मिक प्रगती हेतू समर्पित है! भारत के अतिप्राचिन सहज राजयोग ध्यान प्रणाली का सम्पूर्ण दर्शन तथा मार्गदर्शन इस वेबसाईट में मिलेगा,Add Video
मीडिया प्रभाग की नई वेबसाईट www.bkvarta.com का शुभारम्भ
मीडिया प्रभाग की नई वेबसाईट का शुभारम्भ
मीडिया प्रभाग राजयोग शिक्षा एवम् शोध प्रतिष्ठान के नई वेबसाईट्स www.bkmedia.net तथा www.bkvarta.com का शुभारम्भ भ्राता करुणाभाईजी, उपाध्यक्ष, मीडिया प्रभाग, भ्राता सुशान्तभाईजी, राष्ट्रीय समन्वयक, भ्राता प्रो. कमल दीक्षितजी, ज्येष्ठ कार्यकारिणी सदस्य, भ्राता शान्तनूभाईजी, मुख्यालय समन्वयक इनके शुभहस्तो से 28 नवम्बर, 2009 में मीडिया प्रभाग की वार्षिक मीटिंग में संपन्न हुआ . इस वेबसाईटस पर ब्रह्माकुमारीज् का सम्पूर्ण परिचय, राजयोग तथा अन्य पाठ¶क्र, ताजा खबरें, ब्रह्माकुमारीज् के महत्वपूर्ण व्यक्तियों परिचय पत्र (बायोडाटा) साक्षात्कार, लेख, भविष्य में होने वाले कार्यक्रम / उपक्रम आदि की जानकारी मिलेगी. प्रभाग की दुसरी वेबसाईट www.bkvarta.com इस नाम शुरु की गई. इसकी प्रमुख विशेषता है की यह सम्पूर्णत: हिन्दी में है. ब्रह्माकुमारीज यज्ञ की यह प्रथम हिन्दी वेबसाईट है, इसमें ताजा खबरे, आने वाले कार्यक्रम, सम्पूर्ण राजयोग पाठयक्रम, राजयोग ध्यान प्रणाली जानकारी, लेख, न्यूज, आदि हिन्दी में उपलब्ध है. इसका रुपातरण मराठी, गुजराती भाषा में भी उपलब्ध है. यह वेबसाईट को मीडिया प्रभाग के मीडिया सर्विस सेंटर संचलन रहा है.

ब्रह्माकुमारीज् राजयोग ध्यान प्रणाली की इंग्रजी भाषामंे कई वेबसाईटस् है,इनके माध्यमसे विश्वभर में राजयोग संदेश प्रसारित हो रहा है अपितू राष्ट्रभाषा हिंदी में इस प्रकार की सुविधा नही थी, इस कमी को दूर करने के लिए ब्रह्माकुमारीज् हिंदी पोर्टल शुरु करने की माँग कई राजयोगी अध्यापीका बहने तथा राजयोगी सदयों की थी, इस अनुसार राजयोग शिक्षा एवं शोध प्रतिष्ठान के मीडिया प्रभाग मीडिया सर्विस सेंटर, द्वारा प्रभाग के अध्यक्ष राजयोगी ब्रह्माकुमार ओमप्रकाशभाईजी, उपाध्यक्ष राजयोगी ब्रह्माकुमार करुणाभाईजी, प्रो. कमल दीक्षितजी राजयोगी ब्रह्माकुमार आत्मप्रकाशभाईजी, राजयोगी ब्रह्माकुमार सुशांतभाईजी, राजयोगी ब्रह्माकुमार आस्पिभाईजी राष्ट्रीय समन्वयक, राजयोगी ब्रह्माकुमार शान्तनूभाईजी, मुख्यालय समन्वयक तथा मीडिया प्रभाग के कार्यकारीणी सदस्य इनके मार्गदर्शना में पूर्ण किया भाषा यह संदेशवहन का प्रमुख माध्यम रहता है,


नई सूचना प्रौद्योगिकी यह संदेशवहन का प्रभावी माध्यम है, इंटरनेट इस सूचनाजाल के प्रमुख महत्व को मानते हूए इस माध्यम से विश्वमंे सूचना का भण्डार का निर्माण हो रहा है , इस सूचना सागर मे हरएक तीव्र वेग से सन्देशवहन करने का भरपूर प्रयास कर रहा है, विश्व ग्राम संकल्पना को इंटरनेट ने प्रत्यक्ष किया है एैसा कोई क्षेत्र नही रहा है जिसमें इंटरनेट का प्रयोग नही किया गया हो धार्मिक आध्यात्मिक क्षेत्र भी इस दौड मंे पीछे नही रहा है, अत्याधिक वेबसाईटस् अंग्रेजी भाषा में है, कित्नू विश्व की कुछ प्रमुख भाषा में भी इन वेबसाईटस् का निर्माण हो रहा है, इन प्रमुख भाषा मेंं राष्ट्रभाषा हिन्दी का भी अहम भूमिका रही है ब्रह्माकुमारीज् के राजयोग ध्यान प्रणालीके साधक वर्ग विश्वमें लाखों की अंदाज में है, मूल भारत के माउण्ट आबू, राजस्थान में मुख्य कार्यालय रहे इस विश्वव्यापी आध्यात्मिक शिक्षा संस्था का कारोबार की प्रमुख भाषा हिन्दीही है, आम आदमी तक राजयोग ध्यान प्रणाली पहूँचे इस प्रमुख उद्देश से इस हिन्दी पोर्टल निर्माण का छोटा प्रयास है


अंग्रेजी भाषा को इंटरनेट अच्छी तरह समझता है, इंटरनेट पर हिन्दी में टंकन करना थोडा कठिण कार्य है, किबोर्ड की मर्यादा, शब्दों का न मिलना आदि खामीयाँ को देखते हूए शुद्ध हिन्दीमें टंकन करने का शतप्रतिशत प्रयास करने का संकल्प बीकेवार्ता टिम का है, फिरभी कोई टंकणदोष हुआ होगा तो वाचक वर्ग हमें क्षमा करें इस माध्यम से हिन्दी भाषा की नई खबरे, लेख, प्रकाशन साहित्य पाठकवर्गा को उपलब्ध करने का प्रयास है


- सम्पादक, बीकेवार्ता.कॉम