Red PURPLE BLACK

विशेष वार्ता

 लाईव्ह अपडेट :  शुभवार्ता >>  बीकेवार्ता पाठक संख्या एक करोड के नजदिक -  दिनदूगीनी रात चौगुनी बढरही  पाठकसंख्या बीकेवार्ता की ---- पाठको को लगातार नई जानकारी देनें मेे अग्रेसर रही बीकेवार्ता , इसी नवीनता के लिए पाठको का आध्यात्तिक प्यार बढा ---- सभी का दिलसे धन्यवाद --- देखीयें हमारी नई सेवायें >>>  ब्रहमाकुमारीज द्वारा आंतरराष्टीय सेवायें  | ब्रहमाकुमारीज वर्गीकत सेवायें |आगामी कार्यक्रम | विश्व और भारत महत्वपूर्ण दिवस | विचारपुष्प |


 

Visitor Meter

Articles View Hits
7816682

11 Oct अंतरराष्ट्रीय दृष्टि दिवस World Vision Day

अक्टूबरमाहकेदूसरेबृहस्पतिवारकोअंतरराष्ट्रीयदृष्टिदिवसमनायागया

 

 

11 अक्टूबर: अंतरराष्ट्रीय दृष्टि दिवस 

विश्वभर में अक्टूबर माह के दूसरे बृहस्पतिवार को अंतरराष्ट्रीय दृष्टि दिवस मनाया गया. इसका उद्देश्य दृष्टिहीनता, दृष्टि दोष और दृष्टिहीन लोगों के पुनर्वास जैसे मुद्दों की ओर ध्यान आकर्षित करना है. यह दिन प्रतिवर्ष अक्टूबर माह के दूसरे बृहस्पतिवार को मनाया जाता है. वर्ष 2012 अक्टूबर माह का दूसरा बृहस्पतिवार 11 तारीख को पड़ा. इसलिए इस बार का अंतरराष्ट्रीय दृष्टि दिवस 11 अक्टूबर को मनाया गया.

lack'>�S/��/�G �%n style='font-size:10.5pt; font-family:"Georgia","serif";color:black'> विषय बालविवाहकीसमाप्ति है. 

इस अवसर पर कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिनमें लड़कियों के संरक्षण के लिए समाज में किए जा रहे उपायों के बारे में चर्चा की गई. राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष शान्ता सिन्हा ने बालिकाओं के सशक्तिकरण में बाल विवाह एक बड़ी समस्या बताया.

दुनिया भर में बीस से चौबीस वर्ष तक की तीन में से एक युवती का विवाह 18 वर्ष से पहले हो जाता है. पिछले तीस वर्षो (1982-2012 ) में बालिका वधुओं की संख्या में गिरावट के बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों और विशेष रूप से गरीब तबके में यह चुनौती अब भी बरकरार है. अगर यह रूझान जारी रहा, तो 18 वर्ष से कम उम्र में विवाह होने वाली लड़कियों की संख्या अगले दशक (2010-2020) में बढ़कर 15 करोड़ तक हो जाएगी. लड़कियों की सुरक्षा के लिए उन्हें शिक्षित करना एक बेहतरीन उपाय है. इस अवसर पर दुनिया भर में आयोजित कई कार्यक्रमों में लड़कियों के सशक्तिकरण के लिए समाज में किए जा रहे उपायों को उजागर किया गया .

 

नई टेक्नॉलॉजि(IT)

मनोरंजन